Monday, 7 May 2012

गोविंद शर्मा साहित्यिक सम्मान


व्यंग्यकार को मानद उपाधि

Posted On January - 29 - 2012

साहित्य जगत

संगरिया के बाल साहित्यकार एवं व्यंग्यकार गोविंद शर्मा को उनके साहित्यिक अवदान के उपलक्ष्य में विक्रम शिला विद्यापीठ द्वारा उज्जैन (मध्यप्रदेश) में  पिछले दिनों आयोजित दीक्षांत समारोह में ‘विद्या वाचस्पति ‘; की मानद उपाधि प्रदान की गई। इस अवसर पर अनेक साहित्यकारों, पुरातत्ववेत्ताओं, इतिहासकारों के अलावा कुलपति डा. तेज नारायण कुशवाहा, आयोजन प्रमुख संतश्री डा. सुमन भाई, कुलसचिव डा.देवेंद्रनाथ साह, डा. रामनिवास ‘मानव’ एवं संस्कृत विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डॉ. मोहन गुप्त भी उपस्थित थे। समारोह में गोविंद शर्मा के साहित्यिक योगदान की चर्र्चा करते हुए कहा गया कि इन्होंने अब तक 35 पुस्तकों का लेखन किया है। इनमेें 26 बालकथा संग्रह, ज्ञानविज्ञान, बालकाव्य, बाल उपन्यास, चार जीवनियां एवं दो व्यंग्य संग्रहों ‘कुछ नहीं बदला’ और ‘जहाज केनये पंछी’ सम्मिलित हैं। इन्हेंअनेक संस्थाओं से पुरस्कार/सम्मान के अलावा भारत सरकार के प्रकाशन विभाग से ‘भारतेन्दु पुरस्कार’ तथा राजस्थान साहित्य अकादमी, उदयपुर से ‘शंभूदयाल सक्सेना बाल साहित्य पुरस्कार’ मिल चुका है। हिन्दी के अलावा अंग्रेजी, पंजाबी एवं अन्य भारतीय भाषाओं  में इनकी रचनाओं का अनुवाद हुआ है तथा कई रचनाएंं विभिन्न पाठ्यक्रमों में  शामिल की गई हैं।                (ट्रिन्यू)

No comments:

Post a Comment